LIVE TVअयोध्याउत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़मनोरंजनराजनीतिव्यापारशिक्षा

किसान आन्दोलन के दौरान दर्ज मुकदमें रद्द करने को लेकर मांग पत्र सौंपे

English English Hindi Hindi
सिरसा रेलवे पुलिस थाना में स्थानीय अधिकारी को महानिदेशक रेलवे सुरक्षा बल अंबाला को संबोधित ज्ञापन सौंपते हुए।
प्रशासन ने संज्ञान नहीं लिया तो किसान 2 मई को उपायुक्त कार्यालय का करेंगे घेराव
राजेंद्र कुुमार
सिरसा,25अप्रैल। हरियाणा में सिरसा स्थित गुरुद्वारा दसवीं पातशाही में विभिन्न किसान जत्थेबंदियों की एक सांझी बैठक हुई। बैठक में सर्व कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने भी भाग लिया। बैठक की अध्यक्षता किसान नेता कामरेड सुरजीत सिंह ने की। किसानों पर दर्ज मुकदमों को रद्द करवाने के लिए सर्व प्रथम स्थानीय रेलवे पुलिस थाना में महानिदेशक रेलवे सुरक्षा बल अंबाला को संबोधित व उसके बाद पुलिस अधीक्षक अर्पित जैन को ज्ञापन सौंपे गए।
       बैठक के दौरान समूह जत्थेबंदियों ने अपने-अपने विचार रखे,जिसमें मुख्यत: किसान आंदोलन  के दौरान बने सभी मुकदमों को वापिस करवाने के लिए पुलिस,रेलवे पुलिस व सामान्य प्रशासन से मिलकर मांग पत्र देने पर सहमति हुई। मांग पत्र में हरियाणा से साथ लगते राज्यों में तुड़ी (कनक का भूसा) पर लगा प्रतिबंध हटाना, सिंचाई के लिए बिजली व नहरी पानी की समुचित आपूर्ति आदि मुद्दे भी शमिल किये गए। इस दौरान अखिल भारतीय किसान सभा से डाक्टर सुखदेव जम्मू,किसान समाज यूनियन से गुरनाम सिंह झब्बर, किसानी बचाओ संघर्ष समिति से आत्मा राम झोरड़,बीकेयू ऐलनाबाद से प्रकाश ममेरां,भारतीय किसान एकता प्रदेशाध्यक्ष लखविंद्र सिंह औलख,संयुक्त मोर्चा हरियाणा रोड़वेज से सुरजीत अरोड़ा सहित कई नेता मौजूद रहे।
      किसान नेता गुरनाम सिंह झब्बर ने उपरोक्त जानकारी देते हुए बताया प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 9 दिसंबर 2021 को तीनों कृषि कानून वापिस करने के बाद दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसानों को केन्द्र सरकार द्वारा लिखित रूप में आश्वासन दिया गया था की  सभी किसान अपने घरों की ओर प्रस्थान करें, आंदोलन के दौरान केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा किसानों व मजदूरों पर जो भी केस दर्ज किए गए हैं सभी केस वापस होंगे , परंतु सरकार ने इतना समय बीत जाने के बावजूद दर्ज मुकदमें वापिस ना करके किसानों के साथ विश्वासघात किया है,आज भी सिरसा सहित हरियाणा में काफ़ ी किसानों के पास कोर्ट और जिला प्रशासन के द्वारा पेशगी के नोटिस भेजे जा रहे हैं।
    उन्होंने बताया कि पिछली 28 मार्च को हुई दो दिवसीय ट्रेड यूनियनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर सिरसा में भी रोड़वेज कर्मचारियों का समर्थन करने पहुंचे भारतीय किसान एकता के प्रधान लखविंद्र सिंह औलख सहित 3,4 अन्य किसानों पर प्रदेश सरकार के दवाब में जिला पुलिस द्वारा मुकदमा दर्ज कर दिया गया वहीं तीन रोड़वेज कर्मचारियों को गिरफ्तार भी किया गया। दर्ज मुकदमें मेेंं लूटपाट सहित कुछ अन्य धाराएं लगाई गई हैं,जो सरासर गलत हैं। उन्होंने बताया कि अगर पुलिस प्रशासन ने आज सौंपे गए ज्ञापन पर सज्ञांन नहीं लिया तो आगामी 2 मई को जिला सिरसा की विभिन्न किसान जत्थेबंदियां उपायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगी।

Related Articles

Back to top button