13 C
Patna
Monday, March 1, 2021

Latest News

परीक्षा: रांची यूनिवर्सिटी में पीएचडी कोर्स में एडमिशन के लिए, एंट्रेंस एग्जाम की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जाएगी- वाइस चांसलर

रांची यूनिवर्सिटी के वीसी डॉ. रमेश कुमार पांडेय ने कहा कि पीएचडी कोर्स में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जाएगी। वे शनिवार को जेसीएम के प्रतिनिधिमंडल द्वारा ध्यान आकृष्ट कराए जाने के बाद उपरोक्त बातें कही। जेसीएम के अजीत विश्वकर्मा ने कहा कि रांची विवि से पीएचडी करने का अवसर आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को मिलता है। क्योंकि, निजी विवि में दाखिला नहीं करा सकते हैं। प्रतिनिधिमंडल में विवेक मिश्र, गोपाल नाथ शाहदेव, आशिफ हुसैन, काशिफ अहमद, शंभू शर्मा और शाहबाज शामिल थे।

छात्रों की समस्याओं से अवगत कराया

प्रतिनिधिमंडल ने वीसी डॉ. रमेश कुमार पांडेय को स्टूडेंट्स की परेशानियों से अवगत कराया। कहा कि कोरोना काल में स्टूडेंट्स की काफी पढ़ाई प्रभावित हुई है। छात्रों की समस्याएं सुनी जाएं।

प्रतिकुलपति डॉ. एके महतो को 17 साल पुराने मामले में खोज रही पुलिस

रांची यूनिवर्सिटी के पूर्व परीक्षा नियंत्रक सह विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. एके महतो को 17 वर्ष पुराने एक प्रमाण पत्र वेरिफिकेशन मामले में पुलिस खोज रही है। बताते चलें कि वर्ष 2003 में डॉ. महतो रांची विवि के परीक्षा नियंत्रक थे, उसी समय का मामला है। शहीद चौक स्थित विवि मुख्यालय में शनिवार को पुलिस पहुंची थी और विवि अधिकारियों से डॉ. महतो के संबंध में जानकारी ली। आरयू लीगल सेल के प्रभारी डॉ. एसएन मिश्र के कक्ष में भी पुलिस पहुंची थी। पुलिस ने डॉ. महतो को मोबाइल संख्या भी प्राप्त किया। विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि के प्रोवीसी डॉ. महतो का अभी स्वास्थ खराब है। पुलिस को जानकारी मिली कि उनका इलाज दूसरे राज्य में चल रहा है। बताते चलें कि 10-15 वर्ष पहले रांची विवि के फेंक प्रमाण पत्र विभिन्न राज्यों में मिलते थे।

Source

Latest News

Don't Miss